Haryana

उत्तर-दक्षिण हरियाणा को जोडने के लिए नार्थ-साऊथ कोरिडोर सड़क परियोजना को भाजपा सरकार द्वारा रद्द करना  कुप्रयास,विद्रोही 

ब्यूरो
रेवाड़ी 1 अप्रैल 2019 :स्वयंसेवी संस्था ग्रामीण भारत के अध्यक्ष वेदप्रकाश विद्रोही ने आरोप लगाया कि कांग्रेस शासन 2010 में उत्तर-दक्षिण हरियाणा को जोडने के लिए नार्थ-साऊथ कोरिडोर सड़क परियोजना को भाजपा सरकार द्वारा रद्द करने के कुप्रयासों से साफ है कि भाजपा के लिए विकास केवल एक जुमला है।
विद्रोही ने कहा कि अक्टूबर 2014 में हरियाणा की सत्ता में आने के बाद पहले भाजपा सरकार ने नार्थ साऊथ कोरिडोर सड़क परियोजना का नाम बदलकर नैशनल हाईवे ग्रीन कोरिडोर करके लोगों को मूर्ख बनाने अपना ठप्पा लगाया। चार साल बाद इस परियोजना का श्रेय लेने के ढोल पीटने के बाद अब इस सड़क परियोजनो को रद्द करने का कुप्रयास किया जा रहा है जो अपने आप में बताता है कि भाजपा के लिए विकास एक जुमला है। विद्रोही ने प्रदेश के लोगों से अपील की कि वेे जुमलेबाज, महाझूठी, अफवाहबाज, षडय़ंत्रकारी भाजपा से पूछे कि विगत पांच सालों में केन्द्र से हरियाणा को कितने प्रोजेक्ट मिले और उनमें सेे कितनों पर काम शुरू हुआ। भाजपा विकास की घोषनाएं तो करती है, पर उन्हे प्रारंभ नही करती। कांग्रेस-यूपीए की परियोजनाओं को अपना बताकर उनका फीता काटकर उदघाटन करके भाजपा ना केवल झूठा श्रेय ले रही है अपितु मतदाता के साथ धोखा भी कर रही है। भाजपा को बताना चाहिए कि प्रदेश की वह कौनसी बड़ी विकास योजना है जो भाजपा ने बनाई, उस पर निर्माण किया और फिर उदघाटन किया। वहीं विद्रोही ने दक्षिणी हरियाणा के लोगों से भी अपील की कि वे जातिवाद, क्षेत्रवाद से ऊपर उठकर भावनात्मक रूप से मूर्ख बनने की बजाय विचारे कि कांग्रेस राज में प्रदेश को कितनी विकास परियोजनाएं मिली व भाजपा राज में क्या मिला? चौधर, जातिवाद, क्षेत्रवाद, व्यक्तिवाद के आधार पर भावनात्मक रूप से गुमराह होकर मजदूर, किसान, गरीब विरोधी भाजपा के साथ खड़े होने का अर्थ है कि अपने पैरों पर खुद कल्हाड़ी मारकर अपनी भावी पीढी का भविष्य बर्बाद करना।

5 Comments

Click here to post a comment