Haryana

एन.एच.एम. कर्मचारियों की हड़ताल 18वें दिन भी रही जारी 

-प्रदेश की बहन बेटियों की रोड़वेज बसों में हो रही है डिलीवरी: पुष्पेंद्र
बी.एल. वर्मा द्वारा
नारनौल 22 फरवरी 2019 :स्थानीय चितवन वाटिका में एन.एच.एम. कर्मचारियों की हड़ताल शुक्रवार को 18 वें दिन भी जारी रही। भूख हड़ताल पर बैठे अनशनकारी अशोक नसीबपुर, देवदत्त, महेश यादव व राकेश लाम्बा को जिला प्रधान डा. पुष्पेन्द्र ने जूस पिलाकर समापन करवाया। अनशन समाप्ति के समय उप प्रधान अशोक नसीबपुर ने यह कहकर जूस पीने से मनाकर दिया था कि जब तक हरियाणा सरकार द्वारा एन.एच.एम. कर्मचारियों की मांगों को पूरा नहीं किया जाता तब तक वो अपनी भूख हड़ताल जारी रखेंगे, चाहे उसके प्राण ही क्यों न चले जाएं। इस बीच जिला कार्यकारियाणी सदस्यों तथा सर्व कर्मचारी संघ के महेन्द्र बोयत ने अशोक नसीबपुर को समझाकर अनशन समाप्त करवाया और अगले 72 घण्टे के लिए उप प्रधान कृष्णा कुमारी, संगीता देवी, राजेन्द्र पाल सिंह, नोबतराय भूख हड़ताल पर बैठे।
हड़ताल की अध्यक्षता करे रहे डा. पुष्पेन्द्र ने बताया कि बड़े शर्म की बात है कि विभाग के अधिकारियों हड़ताल के कारण स्वास्थ्य सेवाओं को सुचारू रूप चलने का ड्रामा किया जा रहा, जबकि प्रदेश की बहन बेटियों की रोड़वेज बसों में डिलीवरी हो रही है। हाल ही में कन्ट्रोल रूम के एम्बुलेंस चालकों के हड़ताल के कारण दुर्घटनाग्रस्त को एम्बुलेंस नहीं मिलने के कारण गुस्साएं राहगीर द्वारा चिकित्सकों व अस्पताल कर्मचारियों पर पिस्तौल तानकर अपना गुस्सा जाहिर किया, ऐसी सभी जनविरोधी गतिविधियां अपने आप में स्वास्थ्य विभाग की सुचारू सेवाओं की पोल खोल रही है।
जिला महासचिव विनोद राव ने कहा कि जल्दी ही यदि सरकार द्वारा उनकी मांगों को पूरा नहीं किया गया तो आंदोलन को और तेज करते हुए मंत्रियों या मुख्यमंत्री आवास का घेराव भी किया जा सकता है। हड़ताल के दौरान आम आदमी पार्टी के हल्का अध्यक्ष अभय सिंह यादव ने अपनी टीम के साथ धरने पर आकर समर्थन दिया और सरकार से मांग की गई कि यदि जल्दी ही एन.एच.एम. कर्मचारियों की मांगों को नहीं माना गया तो आम आदमी पार्टी के तरफ  से कर्मचारियों के साथ मिलकर विधायकों के घरों के सामने धरना दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त धरने पर संयुक्त कर्मचारी मंच के प्रांतीय संगठन सचिव राधेश्याम शर्मा तथा रमेश प्रधान नारनौल, आंगनबाड़ी वर्करस एसोसिएशन के प्रदेशाध्यक्ष छोटा गहलावत, सर्व कर्मचारी संघ के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य महेन्द्र बोयत आदि शामिल हुए और सरकार से अपना अडैयल रवैया छोडक़र कर्मचारियों की मांगों को पूरा करने की मांग की।
हड़ताल में डा. सहदेव, डा. जिले सिंह, डा. अमित, डा. सुचिता, डा. सोनिया चौधरी, संदीप यादव, हरकेश, घनश्याम, कुलदीप चौहान, धर्मेन्द्र वर्मा, दिलबाग श्योराण, मोना शर्मा, सोमवती, प्रवीण देवी, सुशीला देवी, सरिता, संतोष देवी, नीतू कुमारी, निशा, ज्ञानवति, रेखा, संदीप, दिनेश, इन्द्रजीत, जिले सिंह, मोहनलाल शर्मा, संजय सैनी, दिनेश सैनी, दिलबाग, सुमिन देवी, नीलम, दिनेश शर्मा, प्रेम प्रकाश आदि सैंकड़ों कर्मचारी शामिल थे।