खेल मंत्रालय ने 54 नेशनल खेल महासंघो को सितंबर 2020 तक दी मान्यता

 

खेल मंत्रालय ने 54 नेशनल खेल महासंघो को सितंबर 2020 तक दी मान्यता जालंधर,३ जून ,२०२० ( सुरेंद्र व्यास ) : भारत सरकार के खेल मंत्रालय ने स्कूल गेस फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसजीएफआई) की मान्यता को मंगलवार 2 जून को जारी 2020 की सूची में स्थान नहीं दिया है। इसके चलते स्कूल गेस फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसजीएफआई) अब देश भर में स्कूली स्तर पर करवाए जाने वाले स्कूली खेलों का आयोजन नहीं करवा सकेगी। स्कूल गेस फेडरेशन आफ इंडिया (एसजीएफआई) की कुप्रबंधन व खराब संचालन के कारण मान्यता रद्द कर दी गई है।
हरियाणा शतरंज एसोसिएशन (एचसीए) के प्रदेश महासचिव कुलदीप ने बताया कि खेल मंत्रालय भारत सरकार ने इस बार 54 नेशनल खेल महासंघो को इस साल केवल 30 सितंंबर तक मान्यता प्रदान की, लेकिन देश भर में स्कूली खेलों की संचालन संस्था स्कूल गेस फेडरेशन आफ इंडिया (एसजीएफआई) को सूची से बाहर बनाए रखा। एसजीएफआई को मान्यता प्रदान नही की गई, जिसके कारण अब देश भर में स्कूली खेलो का आयोजन एसजीएफआई नही करा सकती।
मंगलवार 2 जून को जारी हुई लिस्ट में एसजीएफआई का नाम शामिल नहीं होने से देश भर के स्कूली विद्यार्थियों को अब स्कूली खेलों से वंचित रहना पड़ेगा या इसका आयोजन कोई अन्य फेडरेशन करेगी इस बारे में अभी तक कोई गाइडलाइन जारी नहीं हुई है। देश भर में आयोजित इन स्कूली खेल स्पर्धाओं से लाखों रुपए हेरफेर होने व खराब संचालन के चलते इसे खेल मंत्रालय ने अपनी सूची में शामिल नहीं किया है।
हरियाणा शतरंज एसोसिएशन (एचसीए) के प्रदेश महासचिव कुलदीप ने बताया कि मंत्रालय ने अखिल भारतीय कैरम फेडरेशन को नए सिरे से मान्यता प्रदान की है। भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआइ) व भारतीय नौकायन महासंघ (आरएफआइ) को नेशनल खेल संहिता के उल्लंघन के लिए निलंबित किया गया था। तीरंदाजी व रोइंग संघ चुनाव के बावजूद मान्यता पाने से रह गए जबकि शतरंज और घुड़सवारी संघ चुनाव विवादों के बावजूद मान्यता पा गए। सूची में ताइक्वांडो संघ व जिमनास्टिक फैडरेशन का भी नाम नहीं है। नेशनल खेल महासंघो को आमतौर पर 31 दिसंबर तक मान्यता दी जाती है। लेकिन इस बार मंत्रालय ने केवल इस साल सितंबर तक मान्यता प्रदान की है। छोटे स्तर के खेल महासंघो के लिये खेल मंत्रालय की मान्यता काफी मायने रखती है क्योकि वे सरकार से मिलने वाले सालाना अनुदान पर निर्भर रहते है। मंत्रालय नेशनल खेल महासंघो को मान्यता के बाद ही उसे आर्थिक सहायता प्रदान करता है। भारतीय ओलंपिक संघ (आइओए) के अध्यक्ष नरेन्द्र बत्रा ने इस पर सवाल उठाया। उन्होने कहा सितंबर 2020 तक ही क्यो, दिसंबर 2020 तक क्यों नही।
इन्हें मिली है 2020 के लिए मान्यता
खेल मंत्रालय द्वारा जारी की गई 2020 की लिस्ट में भारतीय शतरंज महासंघ ऑफ इंडिया, ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन, ऑल इंडिया स्पोर्ट्स काउंसिल ऑफ डीफ, ऑल इंडिया टेनिस एसोसिएशन, ऑल इंडिया कैरम फेडरेशन, एमेच्योर बेसबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया, एमेच्योर कबड्डी फेडरेशन ऑफ इंडिया, सॉट टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया, एथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया, बैडमिंटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया, बॉल बैडमिंटन फेडरेशन ऑफ इंडिया, बास्केटबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया, बिलियर्ड्स एंड स्नूकर फेडरेशन ऑफ इंडिया, बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया, ब्रिज फेडरेशन ऑफ इंडिया, साइकिल पोलो फेडरेशन ऑफ इंडिया, साइकिलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया,  फेंसिंग एसोसिएशन ऑफ इंडिया, हैंडबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया, हॉकी इंडिया, इंडिया पोलो एसोसिएशन, इंडियन बॉडी बिल्डर फेडरेशन, इंडियन रग्बी फुटबॉल यूनियन, इंडियन वेटलििटंग फेडरेशन, जुडो फेडरेशन ऑफ इंडिया, कराटे एसोसिएशन ऑफ इंडिया, खो-खो फेडरेशन ऑफ इंडिया, नेशनल राईफल एसोसिएशन ऑफ इंडिया, नेटबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया, रोल बॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया, रोलर स्केटिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया, सेपक टकरा फेडरेशन ऑफ इंडिया, शूटिंग बॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया, सॉट बॉल एसोसिएशन ऑफ इंडिया, स्पेशल ओलंपिक भारत, स्कैश रैकेट फेडरेशन ऑफ इंडिया, स्विमिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया, टेबल टेनिस फेडरेशन ऑफ इंडिया, टेनी कोइट फेडरेशन ऑफ इंडिया, टेनिस बॉल क्रिकेट फेडरेशन ऑफ इंडिया, टैन पिन बालिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया, टग ऑफ वॉर फेडरेशन ऑफ इंडिया, वालीबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया, रेसलिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया, वूशु एसोसिएशन ऑफ इंडिया, नौकायन एसोसिएशन ऑफ इंडिया.

All Time Favorite

Categories