Haryana National NCR

ग्रामीण स्वच्छता को बदलने में बड़ा कारक बना स्वच्छ भारत मिशन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूरदर्शिता पर हरियाणा वासियों का भरोसा सबसे अधिक

प्रेरणादायक नेतृत्व की वजह से देश आधी आबादी ने चुनी बदलाव की राह
सुरेंद्र व्यास द्वारा
चंडीगढ़,  12 फरवरी,2019:  हरियाणा की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती कविता जैन ने कहा है कि ग्रामीण स्वच्छता की बढ़ती कवरेज में स्वच्छ भारत मिशन बड़े कारक के तौर पर सामने आया है। एक ओर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रेरणादायक नेतृत्व की वजह से देश की आधी आबादी ने बदलाव की राह चुनी है, वहीं दूसरी ओर हरियाणा ने प्रधानमंत्री की इस दूरदर्शिता पर सबसे अधिक भरोसा जताकर सामाजिक जागृति में खुद को अव्वल साबित किया है।
मंगलवार को कुरुक्षेत्र में देश भर से आई स्वछताग्रही महिलाओं के राष्ट्रीय आयोजन में  स्वागत संबोधन में महिला एवं बाल विकास मंत्री कविता जैन ने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन ने भारत में ग्रामीण स्वच्छता को बदल दिया है। 39 प्रतिशत स्वच्छता कवरेज से 98 प्रतिशत तक की यह यात्रा आज पूरे विश्व के लिए एक उदाहरण है। 27 राज्यों ने खुद को खुले में शौच मुक्त कर दिया है। उन्होंने गर्व महसूस करते हुए कहा कि आज हरियाणा, देश के पहले ओडीएफ राज्यों में से एक है। 
उन्होंने कहा कि आज हमारे साथ, एक ही छत के नीचे, मेरे प्रदेश हरियाणा की ही नहीं, बल्कि देश भर की हजारों महिला स्वच्छता चैम्पियन हैं, जो देश के सामने उस विषय मे कामयाबी का बड़ा उदाहरण है, जिसपर देश की आजादी के बाद से चर्चा तक नहीं हुई। उन्होंने कहा कि हरियाणा को देश के स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018 में स्वच्छता व सफाई में प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है, यह श्रेय मुख्यमंत्री मनोहर लाल के  निर्देशन में प्रदेश की जनता और विशेषकर महिलाओं को जाता है। प्रदेश में अब तक ग्रामीण क्षेत्रों मेें 31 लाख शौचालयों का निर्माण कर शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल किया है। अब हरियाणा ओडीएफ प्लस की ओर अग्रसर है।
मंत्री कविता जैन ने कहा कि यह आसान कार्य नहीं था। एक मिशन जो महत्वाकांक्षी लग रहा था- कुछ लोग इसे असंभव भी समझते थे- आज प्राप्ति के बहुत पास है। यह सब हमारे  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के प्रेरणादायक नेतृत्व के कारण और आप में से हर एक की कड़ी मेहनत के कारण संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि मुझे यह बताते हुए खुशी है कि महिलाएं इस जन आंदोलन के केन्द्र में रही है। आपने इस आंदोलन में दोहरी भूमिका निभाई है। लाभार्थियों के साथ-साथ आंदोलन की नेताओं, सरपंचों/प्रधानों और स्वच्छागृहियों के रूप में देश भर से, हमारी महिला शक्ति ने स्वच्छता में अनुकरणीय नेतृत्व का प्रदर्शन किया है। देश की स्त्री शक्ति, अब एक सबल स्वच्छ शक्ति बन चुकी है। स्वच्छ भारत मिशन में आपके द्वारा निभाई गई नेतृत्व की भूमिका के सभी बधाई की पात्र हैं। मंत्री कविता जैन ने कहा कि आइए, हम अपनी नई पीढी को एक स्वच्छ और खुलें में शौच से मुक्त देश का उपहार दें। तभी हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सपने को पूरा करने की ठान चुके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामाजिक आंदोलन को प्रभावी तरीके से क्रियान्वित कर सकेंगे।

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने पिछले चार वर्षों के दौरान हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के नेतृत्व में लिए गए महत्वूपर्ण निर्णयों व कार्यों की जहां सराहना कर उनकी पूरी टीम की पीठ थपथपाई वहीं दूसरी ओर वर्ष 2014 में पार्टी द्वारा उनको प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने उपरांत भूतपूर्व सैनिकों की रैली में वोट मांगने की उनकी अपील का समर्थन करने के लिए हरियाणा के लोगों का अभिवादन किया। इसके साथ ही उन्होंने 2019 में होने वाले आगामी चुनाव में समर्थन के लिए हरियाणा की पावन धरा धर्मनगरी कुरुक्षेत्र से आहवान किया।

प्रधानमंत्री आज कुरुक्षेत्र में स्वच्छता अभियान के तीसरे चरण स्वच्छ-शक्ति 2019 का शुभारंभ करने के अवसर पर संबोधित कर रहे थे। उन्होंने इस अवसर पर जम्मू कश्मीर, पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, राजस्थान, गुजरात, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, तेलंगाना, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, मेघालय तथा केंद्र शासित प्रदेश दमन एवं दीव की स्वच्छता-प्रेरकों को सम्मानित किया तथा इनके गांवों वासियों को भी नमन किया जिन्होंने महिला शक्ति का साथ देकर उदाहरण पेश किया है। 

प्रधानमंत्री ने आशा व्यक्त की कि नारी शक्ति का यह समर्थन राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की इसी वर्ष 2 अक्तूबर को होने वाले 150वीं जयंती पर स्वच्छ भारत राष्ट्र को समर्पित करने के लक्ष्य को आसान बनाएगा। उन्होंने कहा कि जब-जब वे हरियाणा के लोगों से आशिर्वाद लेने आते हैं उन्होंने तब-तब लक्ष्य को हासिल किया है,चाहे बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान की बात हो, आयुष्मान भारत की बात या स्वच्छ भारत अभियान की सफलता की बात हो या 2014 में रेवाड़ी में भूतपूर्व सैनिकों से वन रैंक वन पैंशन के वायदे की बात हो। उन्होंने कहा कि इसी धरती से उन्हें सफलता मिली है। कुरुक्षेत्र तो वह धरा है जहां नैतिकता की अनैतिकता पर जीत हुई। महाभारत के कुरुक्षेत्र में हुए युद्ध में श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को दिया गया मानवता के नाम पर गीता का संदेश आज भी प्रांसगिक है। 

 

कुरूक्षेत्र को स्वास्थ्य व संस्कृति की धरती बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आज यहां से हरियाणा के लिए करोड़ों रुपये की स्वास्थ्य की दृष्टिï से पांच परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया गया है तो वहीं संस्कृति की दृष्टि से पानीपत की तीसरी लड़ाई की जानकारी युवा पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए संग्रहालय का शिलान्यास किया गया है। उन्होंने रिमोट की जरिये राष्ट्रीय कैंसर संस्थान बाढ़सा तथा ईएसआईअस्पताल व मैडीकल कालेज फरीदाबाद का लोकार्पण किया और श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र, पंडित दीनदयाल उपाध्याय चिकित्सा अनुसंधान विश्वविद्यालय करनाल, राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान पंचकूला का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि इन संस्थानों के बनने से लोगों का जीवन स्वस्थ व सुगम तो बनेगा ही हरियाणा के युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पर पैदा होंगे। उन्होंने रेवाड़ी जिला के मनेठी गांव में बनने वाले एम्स के लिए जमीन देने के लिए लोगों को साधुवाद भी दिया।

उन्होंने देश के कोने-कोने से आई स्वच्छता-प्रेरकों से आहवान किया कि वे दो दिन तक कुरूक्षेत्र में ठहराव के दौरान प्राप्त किए गए अपने भ्रमण के अनुभवों को एक प्रशिक्षण शिविर के रूप में लें और अपने-अपने क्षेत्र में जाकर उनको लागू करें। 

प्रधानमंत्री ने साढ़े चार वर्षों के दौरान केंद्र सरकार की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इस बजट में मातृशक्ति पर विशेष बल दिया गया है। कामकाजी महिलाओं के लिए प्रसूति अवकाश 12 से 26 सप्ताह किया गया है। प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत 75 प्रतिशत ऋण महिलाओं को दिया जाता है। उन्होंने कहा कि दीनदयाल अंत्योदय योजना के तहत 6 करोड़ स्वयं सहायता समूहों को 75,000 करोड़ रूपए के ऋण पिछले चार सालों में दिए गए। उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 से पहले चार वर्र्षों  के दौरान महिलाओं, आशा वर्कस, आंगनवाड़ी वर्कर्स के लिए जितना कार्य किया था उसका ढ़ाई गुणा ज्यादा कार्य वर्तमान सरकार ने किया है। 

श्री मोदी ने कहा कि 15 अगस्त 2015 को लाल किले से जब मैंने स्वच्छ भारत अभियान के तहत शौचालय बनवाने की बात कही तो कुछ लोगों ने उनका मजाक उड़ाया था परंतु उन्हें इस बात की कोई परवाह नहीं की। आज मुझे खुशी है कि देश की स्वच्छता दर 40 प्रतिशत से बढकऱ 98 प्रतिशत तक पहुंच गई है। उन्होंने कहा कि शौचालयों का निर्माण महिलाओं ने राज मिस्त्री की जगह रानी मिस्त्री बनकर किया है जो महिला सशक्तिकरण का एक मजबूत उदाहरण है और अब इनको प्रधानमंत्री आवास योजना के निर्माण कार्यों में भी लगाया जा सकेगा। उन्होंने देश से भ्रष्टïाचार मिटाने व गंदगी हटाने के लिए अपनी प्रतिबद्घता जाहिर करते हुए कहा कि वे न झुकेंगे और न डरेंगे।

उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान एक अहम पड़ाव पर है और स्वच्छ-शक्ति का यह तीसरा चरण इस अभियान को सफल बनाएगा

हरियाणा को जय जवान, जय किसान का प्रदेश बताते हुए कहा कि गांव,गरीब व किसान का जीवन सरल बनाने के लिए वे प्रयत्नशील हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री किसान निधि योजना की पहली किश्त शीघ्र ही किसानों के खाते में भेजी जाएगी। 

श्री मोदी ने प्रयागराज में चल रहे कुंभ-2019 मेला में स्वच्छता मानदंड अपनाने के लिए वहां के स्वच्छता कर्मियों को नमन किया। उन्होंने बताया कि वहां की स्वच्छता को लेकर न्यूयार्क टाइम्स ने भी अपने संपादकीय में विशेष उल्लेख किया है। 

हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने स्वच्छ शक्ति-2019 के तीसरे चरण की शुरूआत हरियाणा के कुरूक्षेत्र से करने के लिए प्रधानमंत्री का विशेष आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि कुरूक्षेत्र की धरा ने देश और दुनिया को गीता के माध्यम से जीवन जीने का संदेश दिया है। अब स्वच्छता का संदेश भी यहां से दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण 2018 में हरियाणा को पहला स्थान मिला है।, करनाल व रोहतक देश के सौ स्वच्छ शहरों की सूची में शामिल हुए हैं। इसके अलावा एमडीयू रोहतक को देश में स्वच्छ कैंपस का अवार्ड मिला है। उन्होंने कहा कि उनका प्रयास रहेगा कि हरियाणा का रोहतक शहर देश के प्रथम 10 सवच्छ शहरों में शामिल हो। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि पानीपत में 22 जनवरी 2015 को बेटी बचाओ,बेटी पढ़ाओं अभियान की जब प्रधानमंत्री ने शुरूआत की थी तो उस समय लिंगानुपात में सुधार एक चुनौति थी परंतु लोगों के सहयोग से हम उसमें सफल रहे हैं। वर्ष 2001 में प्रदेश में लड़कियों का लिंगानुपात 819 था, 2011 मे 830 और अब सुधर कर यह 922 तक पहुंच गया है। उन्होंने बताया कि पिछले चार वर्षों में 44 नए लड़कियों के कालेज खोले गए हैं जबकि पूर्व की सरकारों के कार्यकाल में हरियाणा में केवल 31 ही खोले गए थे। उन्होंने हर 20 किलोमीटर की परिधी में लड़कियों के कालेज खोलने का सरकार का लख्य है। नारी सुरक्षा की दृष्टिï 30 महिला थाने खोले गए हैं जबकि पहले मात्र 2 ही थे। 

मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि हरियाणा पुलिस में महिलाओं की भागीदारी 20 प्रतिशत तक पहुंचाने का लक्ष्य है, हमारी सरकार ने ही इसको 6 से 10 प्रतिशत तक बढ़ाया है। प्रधानमंत्री ने हरियाणा सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण के लिए उठाए जा रहे कदमों की सराहना की।

स्वच्छता के लिए प्रेरणा देने वाले प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के वक्तव्यों पर आधारित पुस्तक- स्वच्छ भारत- संकल्प से सिद्घ्रि, का हरियाणा के राज्यपाल श्री सत्यदेव नारायण आर्य ने विमोचन किया तथा इसी प्रथम प्रति प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी को सौंपी। बाद में रिमोट से इस पुस्तक के ई-संस्करण को भी लांच किया। 

केंद्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री सुश्री उमा भारती ने अपने संबोधन में कुरूक्षेत्र को महिला शक्ति की धरती बताते हुए कहा कि इसी धरती पर महिला सम्मान के लिए महाभारत हुई थी। स्वच्छता चैंपियनों को बधाई देते हुए कहा कि भारत को ओडीएफ प्लस बनाने में महिलाओं की विशेष भागीदारी रहेगी।

हरियाणा की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती कविता जैन ने प्रधानमंत्री का स्वागत करते हुए कहा कि आपके प्रेरणादायक नेतृत्व से महिला सशक्तिकरण सफलता की ओर बढ़ रहा है। हरियाणा सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण तथा स्वच्छता के क्षेत्र में उठाए जा रहे कदमों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में 31 लाख तथा शहरी क्षेत्र में 67 हजार शौचालयों का निर्माण करवाया गया है। इसके अलावा 131 ठोस कचरा व 414 तरल कचरा प्रबंधन के संयंत्र लगाए गए हैं। शहरों को भी ओडीएफ प्लस प्लस करने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं।

इस अवसर पर हरियाणा विधानसभा की उपाध्यक्ष श्रीमती संतोष यादव, सामाजिक न्याय एवं अािधकारिता मंत्री कृष्ण कुमार बेदी, खाद्य ,नागरिक आपूर्ति एवं उपभौकता मामले राज्य मंत्री कर्ण देव कंबोज, हरियाणा के मुख्य सचिव श्री डी.एस.ढेसी, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव श्री राजेश खुल्लर, राष्ट्रीय महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला, भाजपा के कई विधायकों समेत मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार राजीव जैन भी उपस्थित थे। 

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री श्री अनिल विज ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज कुरुक्षेत्र की धरती से प्रदेश के स्वास्थ्य एवं आयुष विभाग की करीब 1550 करोड़  रुपये  की 3परियोजनाओं का शिलान्यास किया तथा लगभग 2035 करोड़ रुपए के राष्ट्रीय कैंसर संस्थान का उदघाटन किया।

          श्री विज ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने आज विश्व में अपनी तरह के पहले श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालयपंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालयकरनाल तथा पंचकूला में राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान की आधारशिला रखी। इसके अलावाझज्जर के बाढ़सा गांव में बनाए गए राष्ट्रीय कैंसर संस्थान का उदघाटन किया।

          स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि झज्जर जिले के बाढ़सा में बन कर तैयार हुए अखिल भारतीय कैंसर संस्थान का निर्माण करीब 2035 करोड़ रुपये की लागत से हुआ है। इस संस्थान की आधारशिला भी इसी सरकार ने की थीजिसके बाद इस कार्य को शीघ्र पूरा कर दिया गया। इस संस्थान में 710 बिस्तरों की सुविधा हैजिसमें कैंसर से सम्बधित सभी स्तरों पर उपचार किया जाएगा। इसमें चिकित्सकों तथा मरीजों के तिमारदारों के लिए अतिरिक्त करीब 800 कमरे भी बनाए गए हैं।

          श्री विज ने बताया कि प्रधानमंत्री ने करनाल के कुटेल में सैंटर ऑफ एक्सीलेंस के तौर पर विकसित किए जा रहे पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय की आधारशिला रखी। इस विश्वविद्यालय का निर्माण 144 एकड़ से अधिक भूमि पर किया जाएगाजिस पर करीब 750 करोड़ रुपए से अधिक खर्च होने का अनुमान है। इसमें ट्रामा सैंटर से युक्त सुपरस्पैशिलिटी अस्पतालओपीडी,आईपीड सहित अन्य सुविधाएं होगी तथा स्नातकोतर एवं पोस्ट डॉक्टरल पाठ्यक्रम होगा।

          स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कुरुक्षेत्र में बन रहे श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालय की आधारशिला भी प्रधानमंत्री द्वारा रखी जाएगी। यह विश्वविद्यालय दुनिया में अपनी तरह का पहला विश्वविद्यालय होगा,जिसमें आयुर्वेदयोगयुनानीसिद्धा तथा होम्योपैथी चिकित्सा पद्धतियों की शिक्षा एवं उपचार की सुविधा होगी। इसका निमार्ण करीब 94.5 एकड़ भूमि पर किया जाएगाजिस पर करीब 475 करोड़ रुपए खर्च होने की सम्भावना है।

          श्री विज ने बताया कि राज्य में आयुर्वेद के क्षेत्र में अभूतपूर्व चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए पंचकूला में राष्ट्रीय आयुर्वेद संस्थान बनाया जाएगा। इसका निर्माण केन्द्र सरकार के सहयोग से19.87 एकड़ भूमि पर करवाया जाएगा। इसके निर्माण पर करीब 270.50 करोड़ रुपए खर्च आने की उम्मीद है। इसमें 250 बिस्तरों की आईपीडी तथा करीब 500 विद्यार्थियों को आयुर्वेद में स्नातकस्नातकोतर तथा पीएचडी तक की शिक्षा की सुविधा होगी।

          इसके अलावाप्रधानमंत्री ने फरीदाबाद के नवनिर्मित ईएसआईसी मेडिकल कॉलेज तथा अस्पताल का लोकार्पण किया। इसमें हरियाणा सहित अन्य प्रदेशों के श्रमिक अपना उपचार करवा सकेंगे। इसका निर्माण करीब 30 एकड़ भूमि पर किया गया है तथा इसमें एमबीबीएस की 100 सीटे तथा 510 बिस्तरों की सुविधा होगी। इसके साथ ही प्रधानमंत्री पानीपत में लड़ाई का म्यूजियम की भी आधारशिला रखी गईजिसमें पानीपत के विभिन्न युद्धों के वीरों की गौरवगाथा होगी।

श्रीकृष्णा आयुष विश्वविद्यालयकुरुक्षेत्र के कुलपति डॉ० बलदेव कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने आज विश्व के पहले आयुष विश्वविद्यालय का शिलान्यास कर प्राचीन भारतीय चिकित्सा पद्धति को प्रोत्साहन देने का कार्य किया है। 

          डॉ० बलदेव ने इसके लिए प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदीमुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल तथा आयुष मंत्री श्री अनिल विज का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि यह विश्वविद्यालय दुनिया में अपनी विशेष पहचान बनाएगाजिसका निर्माण करीब 475 करोड़ रुपए में कुरुक्षेत्र के गांव फतूपुर में करीब 95 एकड़ भूमि पर किया जाएगा। इसमें आयुष की सभी विधाओं की चिकित्सा तथा शिक्षा की सुविधा होगी। इनमें आयुर्वेदयोगसिद्धायुनानी तथा होम्योपैथी चिकित्सा की विभिन्न धाराओं से लोगों का उपचार भी किया जाएगा।

          कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय में आयुष के सभी विंगों के स्नातकस्नातकोतर तथा पीएचडी की शिक्षा की व्यवस्था की जाएगीजिनके लिए अलग-अलग भवनों तथा सुविधाओं का सृजन होगा। नए विश्वविद्यालय में प्रशासनिक ब्लाकहोस्टललैबपुस्तकालयखेल के मैदानपार्क तथा अन्य आधुनिक सुविधाएं होगी। यह विश्वविद्यालय प्राचीन तथा आधुनिकता का एक ऐसा संगम होगाजिसको देखने के लिए मेडिकल पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। इस सत्र से ही विश्वविद्यालय में विषयों में स्नातकोतर पाठ्यक्रम की शुरूआत भी की जाएगी।

          डॉ. बलदेव ने स्थानीय विधायक श्री सुभाष सुधाप्रशासानिक अधिकारियों तथा फतूपुर में आयोजित कार्यक्रम उपस्थित गांव के सरपंच शमसेर सिंहरजिस्ट्रार डॉ० कृष्ण जटियानआयुर्वेदिक महाविद्यालय के अन्य स्टाफ तथा ग्रामवासियों का भी आभार व्यक्त किया।

 हरियाणा सरकार ने पात्र परिवारों को नि:शुल्क गैस कनैक्शन देने के साथ ही एक पुरस्कार योजना शुरू की हैजिसके तहत यदि कोई परिवार जोकि पात्रता के आधार पर गैस कनैक्शन लेने के लिए योग्य है परन्तु उसे अभी तक गैस कनैक्शन नहीं मिला है तो इस योजना के अनुसार नि:शुल्क गैस कनैक्शन के साथ-साथ उसे 100 रुपये का पुरस्कार भी मिलेगा। यह योजना 10 मार्च 2019 तक जारी रहेगी। इसके लिए वह सम्बन्धित उपायुक्त या जिला खाद्य एवं पूर्ति नियंत्रक या गैस एजेंसी से सम्पर्क कर सकता है।

          खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के एक प्रवक्ता ने आज यह जानकारी देते हुए बताया कि इस योजना के तहत अगर कोई व्यक्ति यदि यह सूचना भी देता है कि उसके आस-पास में कोई पात्र परिवार बिना गैस कनैक्शन के रह गया है तो उसे भी सूचना के सही पाये जाने पर 100 रुपये का नगद ईनाम मिलेगा।

          प्रवक्ता ने बताया कि हरियाणा देश का वह पहला राज्य बनने की ओर अग्रसर हैं जहां सब घरों में एल.पी.जी. गैस कनैक्शन उपलब्ध होंगे। सरकार के अथक प्रयासों के बावजूद भी यदि कोई परिवार जो कि पात्रता के आधार पर गैस कनैक्शन लेने के लिए योग्य है परन्तु उसे अभी तक गैस कनैक्शन नहीं मिला है तो इसके लिए वह सम्बन्धित उपायुक्त या जिला खादय एवं पूर्ति नियंत्रक या गैस एजेंसी से सम्पर्क करें। इस सम्बन्ध में मुख्यालय पर स्थापित राज्य उपभोक्ता सहायता केन्द्र’ के नि:शुल्क नम्बरों 1800-180-2087 व 1967 पर भी शिकायत के निवारण हेतू सम्पर्क किया जा सकता है।

          उन्होंने बताया कि हरियाणा सरकार द्वारा पीलेगुलाबी व खाकी (ओपीएच) कार्डधारकों (लाभार्थी शुल्क 633/-रुपये अतिरिक्त) को एल.पी.जी. कनैक्शनों के लिये विभिन्न योजनाओं के तहत निशुल्क गैस कनैक्शन उपलब्ध करवाये जा रहे हैं। केन्द्र सरकार द्वारा चलाई गई प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत एसईसीसी-2011 के अन्तर्गत लगभग सभी परिवारों को गैस कनैक्शन उपलब्ध करवाये जा चुके हैं। राज्य स्तरीय संयोजकइंडियन ऑयल कारपोरेशनपानीपत की रिपोर्ट अनुसार राज्य में अब तक एल.पी.जी. कनैक्शन प्रदान करने की परिपूर्णता 110.7 प्रतिशत है। इसी प्रकार से राज्य सरकार द्वारा बी.पी.एल. परिवारों को 1600 रुपये की सहायता देकर लगभग सभी बी.पी.एल. व ए.ए.वाई. परिवारों को गैस कनैक्शन उपलब्ध करवाये जा चुके हैं। इसके अतिरिक्त नवम्बर, 2018 में राज्य सरकार ने उन परिवारों के लिए जो बी.पी.एल. परिवार तथा एसईसीसी-2011 सूची में शामिल नहीं हैं और जिनके पास खाकी कार्ड है, (लाभार्थी शुल्क 633/- रुपये अतिरिक्त) उनके लिए भी नि:शुल्क गैस कनैक्शन उपलब्ध करवाये गये हैं। इसके लिए ग्रामीण व शहरी क्षेत्र में जगह-जगह पर विशेष कैम्प लगाये गये हैं एवं व्यापक प्रचार-प्रसार किया गया है।

19 Comments

Click here to post a comment