Haryana

जिले में कंप्लेंट मानिटरिंग सिस्टम एक्टिव

जिले में कंप्लेंट मानिटरिंग सिस्टम एक्टिव

जिले में कंप्लेंट मानिटरिंग सिस्टम एक्टिव

नारनौल मीडिया सेंटर मेंं पत्रकारों से बातचीत करते उपायुक्त जगदीश शर्मा।

-आदर्श चुनाव संहिता के उल्लंघन पर होगी सख्त कार्रवाई: उपायुक्त
-चुनाव के दौरान शुरू नहीं होंगे नए विकास कार्य
त्रिभुवन वर्मा द्वारा:
नारनौल, 22 सितंबर 2019। :हरियाणा में विधानसभा चुनावों के लिए आदर्श चुनाव आचार संहित लागू हो चुकी है। जिले में हर हाल में चुनाव आचार संहित की पालना करवाई जाएगी। इसका उल्लंघन करने पर आयोग की तरफ से सख्त कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। यह बात उपायुक्त एवं जिला निर्वाचन अधिकारी जगदीश शर्मा ने रविवार को मीडिया सेंटर में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में कहीं।
उन्होंने बताया कि राज्य में 21 अक्टूबर को वोट डाले जाएंगे। वोटों की गिनती 24 अक्टूबर को होगी। चुनाव के लिए 27 सितंबर को अधिसूचना जारी की जाएगी। यानी 27 सितंबर से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। 4 अक्टूबर को नामांकन की अंतिम तारीख होगी। 7 अक्टूबर तक नामांकन वापस लिए जा सकते हैं। चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही तत्काल प्रभाव से हरियाणा में आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई।

जिले में कंप्लेंट मानिटरिंग सिस्टम एक्टिव
उन्होंने बताया कि अब किसी भी सरकारी विभाग द्वारा धरातल पर नए विकास कार्य शुरू नहीं किए जा सकते, लेकिन जो शुरू हो गए हैं वे जारी रहेंगे। उन्होंने स्पष्टï किया कि किसी काम के लिए चाहे टेंडर जारी हो गए हो और वो कार्य ग्राउंड पर शुरू नहीं हुआ है तो अब आदर्श आचार संहिता लागू होने के बाद उसे शुरू नहीं किया जा सकता। डीसी ने कहा कि अब सी विजील एप ऑपरेशनल हो जाएगा। उस पर मिलने वाली शिकायत पर निर्धारित समय में रिस्पॉन्ड किया जाएगा। जिले में कंप्लेंट मॉनिटरिंग सिस्टम को एक्टिव कर दिया गया है। जिला समाज कल्याण अधिकारी अमित शर्मा इसके नोडल अधिकारी होंगे। हेल्पलाइन नंबर 1950 पर 24 घंटे कर्मचारियों की ड्ïयूटी रहेगी।
उन्होंने कहा कि चुनाव खर्च पर नजर रखने के लिए टीमें गठित की जा चुकी हैं। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में इसके लिए 12 एसएसटी टीम गठित की गई हैं। ये टीम अवैध शराब, नशीला पदार्थ, धन व ऐसी अन्य चीजों पर नजर रखेगी। यह टीम 24 घंटे एक्टिव रहेगी।
डीसी ने बताया कि चुनाव के दौरान सरकारी अधिकारियों व कर्मचारियों के अलावा किसी भी सरकारी वाहन का कोई भी राजनीतिक व्यक्ति या पार्टी प्रयोग नहीं कर सकता। उन्होंने बताया कि अब कोई भी राजनीतिक दल या व्यक्ति एमसीएमसी (मीडिया सर्टिफिकेशन एंड मॉनिटरिंग कमेटी) की अनुमति के बिना किसी भी माध्यम से विज्ञापन प्रकाशित व प्रसारित नहीं करेगा। साथ ही यह कमेटी पेड न्यूज पर नजर रखेगी और हर रोज चुनाव आयोग को इसकी रिपोर्ट दी जाएगी। अगर कोई पेड न्यूज के मामले में एमसीएमसी के फैसले से सहमत नहीं है तो वह राज्य स्तर की कमेटी के पास जा सकता है और अगर वहां पर वह संतुष्टï नहीं है तो उसे अंत में केंद्र की कमेटी के समक्ष अपनी बात रखनी होगी। इसके लिए एक मीडिया सेंटर बनाया जाएगा। जिसमें विभिन्न प्रकार के टीवी चैनल, सोशल मीडिया व न्यूज पेपर पर नजर रखी जाएगी।
इस मौके पर पुलिस अधीक्षक दीपक सहारण व विभिन्न पार्टियों के जनप्रतिनिधि भी मौजूद थे।
24 तक बनवा सकते हैं वोट:
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त जगदीश शर्मा ने कहा कि अगर 1 जनवरी 2019 को पात्र हो चुके किसी व्यक्ति ने अभी तक अपना वोट नहीं बनाया है तो वो भी 24 सितंबर तक अपना वोट बनवा सकता है। इसके लिए वह एनवीएसपी डॉट इन पर ऑनलाइन भी आवेदन कर सकता है। फिलहाल जिले में कुल 665710 मतदाता हैं, जिसमें 352375  पुरुष तथा 313335 महिलाएं है।