Punjab

ताईक्वांडो आत्मरक्षा की बेहतरीन कला, लड़कियां जरूर सीखेः खेल मंत्री

ताईक्वांडो आत्मरक्षा की बेहतरीन कला, लड़कियां जरूर सीखेः खेल मंत्री

ताईक्वांडो आत्मरक्षा की बेहतरीन कला, लड़कियां जरूर सीखेः खेल मंत्री

पंजाब स्टेट ताईक्वांडो चैंपियनशिप की क्लोजिंग सैरेमनी में खेल मंत्री ने युवाओं से स्पोर्ट्स से जुड़ने का किया आह्वान

कहा, जो बच्चा मैदान में आएगा, वह जिंदगी में कभी नशे के नजदीक नहीं जाएगा

फिरोजपुर के नाम रही ताईक्वांडो चैंपियनशिप की ओवरऑल ट्रॉफी,

ताईक्वांडो आत्मरक्षा की बेहतरीन कला, लड़कियां जरूर सीखेः खेल मंत्री

फिरोजपुर, 4 नवंबर, 2019: ताईक्वांडो आत्मरक्षा की एक बेहतरीन कला है। इसे सीखने से न सिर्फ आत्मविश्वास बढ़ता है ब्लकि मजबूत आत्मरक्षा की एक भावना भी पैदा होती है। इसलिए लड़कियां इस कला को जरूर सीखें। ये विचार खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी ने शहीद भगत सिंह स्टेडियम में पंजाब स्टेट ताईक्वांडो चैंपियनशिप की क्लोजिंग सैरेमनी में खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि वह सभी अभिभावकों से आह्वान करते हैं कि अपने बच्चों को ताईक्वांडो खेल में जरूर डालें।

कार्यक्रम में विजेता खिलाड़ियों को पुरस्कृत करते हुए खेल मंत्री ने कहा कि यह जरूरी है कि सभी खिलाड़ी खेल भावना के साथ फील्ड में उतरें। उन्होंने कहा कि खेल हमारे जीवन का एक अहम हिस्सा होना चाहिए क्योंकि जो व्यक्ति खेल के मैदान में उतरता है, वह जिंदगी भर कभी नशे के पास नहीं जाता।

खेल मंत्री राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी ने अभिभावकों से आह्वान किया कि वह अपने बच्चों को छोटी उम्र में ही खेलों से जोड़ें ताकि बड़े होकर नशे जैसी बुराईयों से वह दूर रहें। उन्होंने कहा कि अगर वह स्पोर्ट्सपर्सन नहीं होते तो वह राजनेता भी नहीं होते, साथ ही उन्होंने अभिभावकों को स्पोर्ट्स के जरिए करियर की बुलंदियों तक पहुंचने के बारे में जागरूक किया। पंजाब में बनाई जा रही स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि इससे हमारे खिलाड़ियों को काफी मदद मिलेगी। उन्हें पहले से बेहतर ट्रेनिंग और गाइडेंस मिलेगी, जिससे अपना लक्ष्य हासिल करने में हमारे खिलाड़ियों को मदद मिलेगी।

पंजाब स्टेट ताईक्वांडो चैंपियनशिप में ओवरऑल ट्रॉफी फिरोजपुर के नाम रही। यह मुकाबले चार श्रेणियों में करवाए गए थे। सब जूनियर, जूनियर, कैडेट और सीनियर। सभी मुकाबले महिला व पुरुष कैटेगिरी में अलग-अलग करवाए गए। पहला पुरस्कार फिरोजपुर जिले की टीम को मिला। दूसरे नंबर पर लुधियाना और तीसरे नंबर पर जालंधर की टीम रही। इस मुकाबले में 19 जिलों की टीमों ने हिस्सा लिया। मुख्य मेहमान खेल मंत्री ने सभी टीमों को उनके उम्दा प्रदर्शन के लिए बदाई दी और भविष्य में भी इसी मेहनत व लगन से प्रैक्टिस करते रहने का आह्वान किया।

इस मौके पर डिप्टी कमिश्नर चंद्र गैंद ने इतने बड़े खेल आयोजन के लिए पंजाब ताईक्वांडो एसोसिएशन के प्रधान अनुमीत सिंह सोढ़ी का धन्यवाद किया और कहा कि वह बच्चों की हौंसलावजाई के लिए इस तरह के आयोजन फिरोजपुर में करवाते रहे। इस मौके पर एसपी गुरमीत सिंह चीमा, एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष हंसराज भट्टी, जिला उपभोक्ता शिकायत निवारण फोरम के मेंबर बलदेव सिंह भुल्लर, डिप्टी डीईओ रूपिंदर कौर, एसोसिएशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष अरुण कुमरा, अमृतसर से कार्यकारी प्रधान लक्ष्मण प्रसाद, सचिव पंजाब ताईक्वांडो एसोसिएशन डॉ. प्रदीप कुमार, एडवोकेट राजेश दुआ, रिया शर्मा , कुलदीप सिंह लैक्चरर, दविंदरनाथ लैक्चरर, अरुण अरोड़ा, अमित कंबोज मौजूद थे। महासचिव विकास कंबोज ने रिजल्ट के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी।