Hindi News

नेशनल लोक अदालत में 629 केसों का आपसी रजामंदी से निपटारा, 8,69,76,805 रुपए के मुआवजे के अवार्ड हुए पास

नेशनल लोक अदालत में 629 केसों का आपसी रजामंदी से निपटारा, 8,69,76,805 रुपए के मुआवजे के अवार्ड हुए पास

फिरोजपुर सैशन डिवीजन में कुल 17 बैंच स्थापित हुए जिसमें से जीरा और गुरु हरसहाय में दो-दो बैंच स्थापित किए

जिला कानूनी सेवाएं अथारिटी ने एक घरेलू झगड़े में दोनों पक्षों का अपने निवास स्थान पर करवाया समझौता और वहीं से दम्पति को किया रवाना

फिरोजपुर, 13 जुलाई,2019:   पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट के जज जस्टिस राकेश कुमार जैन कम कार्यकारी चेयरमैन पंजाब राज्य कानूनी सेवाएं अथारिटी के दिशा-निर्देशों पर शनिवार को फिरोजपुर सैशन डिवीजन में नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। जिला कानूनी सेवाएं अथारिटी के चेयरमैन कम जिला एवं सत्र न्यायधीश श्री परमिंदरपाल सिंह ने बताया कि जिले में नेशनल लोक अदालत के तहत कुल 17 बैंच स्थापित किए गए। इसमें से 12 बैंच सैशन कोर्ट फिरोजपुर, 2-2 बैंच जीरा और गुरु हरसहाय सब डिवीजन स्तर पर स्थापित किए गए हैं।  इसके अलावा परमानेंट लोक अदालत का भी एक बैंच स्थापित किया गया है। उन्होंने बताया कि नेशनल लोक अदालत में कुल 2967 केसों को आपसी सहमती से निपटारे के लिए रखा गया था, जिसमें से 629 केसों का निपटारा दोनों पक्षों के राजीनामे के जरिए करवा दिया गया है। इन केसों से संबंधित 8,69,76,805 रुपए की मुआवजा राशि के अवार्ड भी पास कर दिए गए हैं और ये राशि संबंधित पक्षों को बतौर मुआवजा दी जाएगी। विस्तृत जानकारी देते हुए उन्होने बताया कि नेशनल लोक अदालत के तहत आयोजित प्री-लोक अदालत के तहत एक दम्पति के घरेलू झगड़े का निपटारा जिला कानूनी सेवाएं अथारिटी के चेयरमैन ने अपने निवास स्थान (सैशन हाऊस) में करवाया और यहीं से संबंधित दम्पति को एक साथ रवाना किया गया। इसके अलावा जुडीशियल मजिस्ट्रेट श्री अनीश कुमार गोयल ने एक चार साल पुराने धोखाधड़ी के क्रिमिनल केस का निपटारा दोनों पक्षों की सहमती से करवाया है।

चेयरमैन जिला कानूनी सेवाएं अथारिटी श्री परमिंदरपाल सिंह ने कहा कि लोक अदालत में दोनों पक्षों का आपसी समझौते के जरिए निपटारा करवाया जाता है और यहां होने वाले फैसलों के खिलाफ कोई अपील नहीं होती। लोक अदालत का फैसला आखिरी होता है क्योंकि लोक अदालत के फैंसलों को डिक्री माना जाता है। उन्होंने कहा कि लोक अदालत में केस का निपटारा करवाने से जहां कीमती समय व पैसों की बचत होती है, वहीं दोनों पक्षों में आपसी भाईचारा भी बना रहता है। उन्होंने कहा कि जो लोग अपने केसों का निपटारा लोक अदालत या मीडिएशन के जरिए करवाना चाहते हैं, वे जिला कानूनी सेवाएं अथारिटी के पास आजकर अर्जी दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि मीडिएशन सेंटर में भी ट्रेंड एक्सपर्ट्स दोनों पक्षों को आमने-सामने बैठाकर विवादों का निपटारा करवाने की कोशिश करते हैं और मीडिएशन के जरिए विवादों के निपटारे में अच्छे परिणाम देखने को मिले हैं।