Haryana Hindi News

शारीरिक, मानसिक एवं आर्थिक परेशानियों से छुटकारा पाने के लिए लोक अदालत सशक्त माध्यम हैं: जज हिमांशु सिंह

महेन्द्रगढ़ न्यायिक परिसर में नेशनल लोक अदालत में प्रस्तुत केसों की सुनवाई व निपटारा करते हुए जज हिमांशु सिंह।
लोक अदालत में किया गया 31 मामलों को मौके पर ही निपटारा
त्रिभुवन वर्मा द्वारा
महेन्द्रगढ 9 मार्च 2019 : सीनियर डिविजनल जज एवं उपमंडल विधिक सेवाएं समिति के चेयरमैन हिमांशु सिंह की अध्यक्षता में शनिवार को न्यायालय महेन्द्रगढ़ में नेशनल लोक अदालत का आयोजन किया गया। जज हिमांशु सिंह ने लोक अदालत में प्रस्तुत केसों की सुनवाई करते हुए कहा कि लोगों को कोर्टों के चक्कर काटने से होने वाली शारीरिक, मानसिक एवं आर्थिक परेशानियों से मौके पर ही छुटकारा पाने तथा आपसी भाईचारा बनाए रखने के लिए लोक अदालत सशक्त माध्यम है। आज आयोजित लोक अदालत में आपसी सहमति से प्रस्तुत किए गए 31 मामलेां का मौके पर ही निपटारा किया गया। प्रस्तुत परी-लिटिगेशन के 6 मामलों में 16 हजार 81 हजार रूपये व 25 पैंडिंग चालान केसों में 6400 रुपए की रिकवरी की गई।
जज हिमांशु सिंह ने कहा कि न्यायालय में समय-समय पर लोक अदालतों का आयोजन किया जाता है जिनका लोगों को ज्यादा से ज्यादा लाभ उठाना चाहिए। उन्होंने कहा कि लोक अदालतों में निपटाए जाने वाले केसों में किसी भी पक्ष की जीत या हार नहीं होती क्योंकि दोनों पक्षों के हितों को ध्यान में रखते हुए ही आपसी सहमति से मामलों का निराकरण किया जाता है जिससे लोगों में आपसी भाईचारा भी कायम रहता है।
इस अवसर पर उन्होंने लोगों से कहा कि छोटे-मोटे विवादो को झगड़ों का रूप देकर कोर्टों में केस दायर करने से परहेज करना चाहिए तथा ऐसे विवादों को ग्राम पंचायतों एवं मौजिज लोगों के समक्ष रख कर घर-द्वार पर समाधान करवा लेेने चाहिए। ऐसा करने से कोर्टों के बारंबार चक्कर लगा कर होने वाली शारीरिक, मानसिक एवं आर्थिक परेशानी से बचा जा सकता है तथा आपसी मेल-मिलाप एवं भाईचारा भी बना रहता है। उन्होंने कहा कि जब भी जनहित में लोक अदालतों का आयोजन होता है तो इन अवसरों को लोगों को ज्यादा से ज्यादा लाभ उठा लेना चाहिए।