Hindi News

संभावी बाढ़ से बचाव के लिए प्रबंध सुनिश्चित बनाए अधिकारी: डिप्टी कमिश्नर

– विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक करने के बाद प्रभावित क्षेत्रों का किया दौरा
– समूह जिला अधिकारियों को अग्रणी प्रबंध करने की दी हिदायत
– कहा, अधिकारी 24 घंटे मोबाइल रखें चालू, एकजुटता व तालमेल से करें काम

सुरेन्द्र व्यास द्वारा :
होशियारपुर, 18 अगस्त,2019 : मौसम विभाग की ओर से प्रदेश में भारी बारिश की चेतावनी के मद्देनजर डिप्टी कमिश्नर श्रीमती ईशा कालिया ने बचाव कार्यों संबंधी जिले में किए गए प्रबंध यकीनी बनाने के लिए आज जिला अधिकारियों के साथ बैठक की। इस दौरान एस.एस.पी. श्री गौरव गर्ग भी विशेष तौर पर मौजूद थे। उन्होंने अलग-अलग विभागों के अधिकारियों को अग्रणी प्रबंध करने की हिदायत देते कहा कि ऐसे हालात का सामना करने के लिए एकजुटता व तालमेल से काम किया जाए। बैठक के उपरांत उन्होंने शांति नगर, गांव पट्टी, हल्लोवाल, बसी कलां, सुंदर नगर के अलावा अन्य प्रभावित स्थानों का दौरा भी किया।
डिप्टी कमिश्नर ने आज कैंप आफिस में आयोजित बैठक के दौरान कहा कि हालांकि जिले में अभी स्थिति सामान्य है, फिर भी अधिकारी पूरी सर्तकता बनाए रखें। उन्होंने अधिकारियों को 24 घंटे मोबाइल चालू रखने के निर्देश दिए और कहा कि अधिकारी संभावी बाढ़ से प्रभावित होने वाले क्षेत्रों के नजदीक रहते लोगों के साथ निरंतर तालमेल बनाए रखें ताकि अप्रत्याशित स्थिति से निपटा जा सके। उन्होंने कहा कि अधिकारी सौंपी गई ड्यूटी को तनदेही व जिम्मेदारी से निभाएं, ताकि बाढ़ जैसे हालात से निपटने के लिए कोई मुश्किल न आ सके।
डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि जिला प्रशासन की ओर से पहले से ही सारी स्थिति पर नजर रखी जा रही है व प्रशासन किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। उन्होंने समूह एस.डी.एम्ज, स्वास्थ्य विभाग, पुलिस, पावर कार्पोरेशन, नगर निगम, नगर परिषद, नगर पंचायतों, वाटर सप्लाई विभाग व ड्रेनेज विभाग को पूरी तैयारी रखने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने एस.डी.एम्ज कोकहा कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों की पहले ही पहचान यकीनी बनाई जाए। उन्होंने कार्यकारी इंजीनियर ड्रेनज विभाग को हिदायत दी कि जिले के अंतर्गत आती नहरों व ड्रेनों की साफ-सफाई यकीनी बनाई जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी बाढ़ की स्थिति दौरान राहत केंद्रों में डाक्टरी टीमें व दवाईयां, वाटर सप्लाई विभाग के अधिकारी पीने वाला साफ पानी, पशु पालन विभाग के अधिकारी पशुओं के लिए हरे चारे, दूरसंचार विभाग के अधिकारी संचार सेवाएं, पावर कार्परेशन के अधिकारी निर्विघ्न बिजली सप्लाई व आर.टी.ए. विभाग के अधिकारी वाहनों का प्रबंध यकीनी बनाएं, इसके अलावा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के लिए गोताखोरों की पहले से पहचान करने के लिए भी कहा।
डिप्टी कमिश्नर इस दौरान दसूहा, मुकेरियां, गढ़शंकर व होशियारपुर सब-डिविजन के अंतर्गत प्रभावित होने वाले क्षेत्रों का रिव्यू भी किया। उन्होंने कहा कि बाढ़ के सीजन के दौरान यह भी यकीनी बनाया जाए कि चोअ के नजदीक बच्चे नहाने से गुरेज करें। उन्होंने कहा कि बाढ़ के सीजन के दौरान बच्चों का चोअ में नहाना बहुत खतरनाक साबित हो सकता है। उन्होंने एस.डी.एम्ज को निर्देश दिए कि बरसातों मेें शहरी व ग्रामीण इलाकों के जिन स्थानों पर ज्यादा पानी आता है वहां पर उसकी निकासी के भी उचित प्रबंध कर लिए जाएं।
श्रीमती ईशा कालिया ने कहा कि बरसातों के दौरान दूषित पानी से होने वाली बीमारियों की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग खास तौर पर चौकन्ना रहे। इसके अलावा उन्होंने संबंधित विभाग को नौकाओं, लाइफ जैकेट व बाढ़ की स्थिति संबंधी उपयोग की जाने वाली मशीनरी के अग्रिम तौर पर जांच करने की भी हिदायत की। उन्होंने एस.डी.एम्ज को समाज सेवी व सामाजिक संस्थाओं का चुनाव करने के अलावा गांव में मेहनती व्यक्तियों की पहचान करने के लिए कहा, ताकि ऐसे हालात का सामना करने के लिए इनका सहयोग लिया जा सके।
बैठक में ए.डी.सी(सामान्य) श्री हरप्रीत सिंह सूदन, एस.डी.एम. होशियारपुर श्री अमित सरीन, एस.डी.एम. गढ़शंकर श्री हरबंस सिंह, एक्सियन ड्रेनेज विभाग श्री जी.एस. कलसी, जिला खाद्य व आपूर्ति कंट्रोलर श्रीमती रजनीश कुमारी, जिला विकास व पंचायत अधिकारी श्री सर्बजीत सिंह, सहायक सिविल सर्जन डा. पवन कुमार के अलावा अलग -अलग विभागों के अधिकारी व प्रतिनिधि उपस्थित थे।