Haryana

सडक़ सुरक्षा व सुरक्षित स्कूल वाहन पालिसी पर बैठक


-सडक़ सुरक्षा पर बैठक लेते उपायुक्त जगदीश शर्मा।

सडक़ सुरक्षा कानून की पालना हर नागरिक का धर्म: जगदीश शर्मा
-अधिकारी अपने कर्मचारियों की बैठक लेकर इस संबंध में दें कड़े निर्देश
त्रिभुवन वर्मा द्वारा :
नारनौल, 10 सितंबर 2019:सडक़ सुरक्षा कानून का पूरी तरह से पालन करना हर नागरिक का धर्म है। ये केवल पुलिस का काम नहीं बल्कि पूरे समाज को खुद इस मुहिम से जुडऩा होगा। सडक़ सुरक्षा हर नागरिक के जीवन को प्रभावित करती है। ऐसे में हर विभाग भी अपने कर्मचारियों की बैठक लेकर इस संबंध में सख्त निर्देश दें। यह बात उपायुक्त जगदीश शर्मा ने मंगलवार को सडक़ सुरक्षा व सुरक्षित स्कूल वाहन पालिसी के संंबंध में लघु सचिवालय में बुलाई बैठक में कहीं।
डीसी ने कहा कि हरियाणा जीरो विजन का मुख्य मकसद यही है कि एक भी नागरिक सडक़ दुर्घटना में न मरे। उन्होंने निर्देश दिए कि जीरो विजन के तहत दुर्घटना संभावित क्षेत्रों पर राष्टï्रीय राजमार्ग प्राधिकरण, सडक़ एवं भवन निर्माण व स्थानीय निकाय विभाग अपने-अपने हिस्से का काम करें। उन्होंने निर्देश दिए कि वे काम करने से पहले जिस भी बिंदु पर काम करें उसका पहले का फोटो लें और काम होने के बाद का भी फोटो लें। इसके बाद इस काम की सडक़ सुरक्षा संगठन की ओर से वैरिफाई करवाया जाएगा।
उन्होंने निर्देश दिए कि स्कूल, कालेज व आईटीआई में बच्चों को सडक़ सुरक्षा के संबंध में लगातार जागरूक किया जाए। इस पर बच्चों की प्रतियोगिताएं भी करवाई जा सकती हैं। साथ ही स्कूल बसों की भी लगातार चैकिंग की जाए। उन्होंने कहा कहा कि हमारा लक्ष्य है कि हरियाणा जीरो विजन पालिसी के अनुसार जिले में काम हो और सडक़ हादसों पर पूर्ण रूप से रोक लगे। इस बैठक में एडीसी डा. मुनीश नागपाल, पुलिस अधीक्षक दीपक सहारन, नगराधीश प्रवेश कुमार, एसडीएम नारनौल प्रीतपाल, एसडीएम महेंद्रगढ़ मुनीष फौगाट के अलावा अन्य अधिकारी मौजूद थे।
15 सितंबर तक जागरूकता फिर कटेंगे चालान: पुलिस अधीक्षक
लघु सचिवालय में सडक़ सुरक्षा व सुरक्षित स्कूल वाहन पालिसी के संंबंध में हुई बैठक में पुलिस अधीक्षक दीपक सहारन ने कहा कि एक सितंबर से सडक़ सुरक्षा के नियम तोडऩे वालों के खिलाफ कई गुणा जुर्माने का प्रावधान किया गया है। अभी जिला पुलिस द्वारा केवल जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है लेकिन 15 सितंबर के बाद इन नियमों को कड़ाई से लागू किया जाएगा। नियमों का उल्लंघन करने वालों के चालान काटे जाएंगे। सडक़ सुरक्षा नियमों का उल्लंघन करने वालेे हर व्यक्ति के साथ सख्ती की जाएगी। ऐसे में लोग पहले ही अपने जीवन में सडक़ सुरक्षा के नियमों की पालना करने की आदत डाल लें। सबसे पहले सभी अधिकारी व कर्मचारी इनकी पालना करके लोगों के सामने उदाहरण पेश करें।