सामाजिक कार्यकर्ता शील रघुविंद्र यादव ने हरयाणा सरकार से इसी सत्र से पटीकरा स्थित आयुर्वेदिक कॉलेज में दाखिले शुरू करने की अपील की

 

 

 

 

 

नारनौल, 10 जुलाई,2018 (सुरेंद्र व्यास द्वारा )  :एक तरफ प्रदेश सरकार हर जिले में मेडिकल कॉलेज खोलने की बात करती है, दूसरी तरफ नारनौल के गाँव पटीकरा में बने बाबा खेतानाथ राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज में इस बार भी बीएएमएस के दाखिले नहीं होंगे। जबकि कॉलेज का भवन लगभग एक साल से तैयार है और 13 नवंबर, 2017 को मुख्यमंत्री मनोहरलाल द्वारा उद्घाटन भी किया चुका है।

गाँव नीरपुर निवासी सामाजिक कार्यकर्ता शील रघुविंद्र यादव ने बताया कि इस बार प्रदेश सरकार ने श्री कृष्ण आयुष विश्वविद्यालय, कुरुक्षेत्र को बीएएमएस और बीएचएमएस के दाखिले करने के लिए अधिकृत किया है, जिसके लिए जारी नोटिफिकेशन में केवल 13 कॉलेजों में ही दाखिला करने की अनुमति प्रदान की है। इन 13 सरकारी और प्राइवेट कॉलेजों में पटीकरा का बाबा खेतानाथ राजकीय आयुर्वेदिक कॉलेज शामिल नहीं है।

श्रीमती यादव ने प्रदेश सरकार से इसी सत्र से पटीकरा स्थित आयुर्वेदिक कॉलेज में दाखिले शुरू करने की अपील करते हुए मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री, स्वास्थ्य सचिव के साथ साथ स्थानीय विधायक और नांगल चौधरी के विधायक डॉ अभय सिंह को ईमेल से पत्र है।

श्रीमती यादव ने लिखा है कि इस संस्थान के शुरू होने से इस  पिछड़े क्षेत्र के युवाओं को भी मेडिकल की शिक्षा प्राप्त करने में सुविधा होगी, वहीं लोगों को उचित उपचार भी मिल सकेगा। भवन पहले से ही तैयार है और सरकार कॉलेज को शुरू करवाकर अपनी एक उपलब्धि बढ़ा सकती है।

उन्होंने स्थानीय विधायक ओमप्रकाश यादव और नांगल चौधरी के विधायक डॉ अभय सिंह से अपने प्रभाव का इस्तेमाल करके कॉलेज को इसी सत्र से शुरू करवाने की मांग  की है। श्रीमती यादव का कहना है कि अभी काउंसलिंग की प्रक्रिया शुरू नहीं हुई है और यदि सरकार चाहे तो इस कॉलेज को भी दाखिला प्रक्रिया में शामिल किया जा सकता है।