Hindi News

सीताराम मंदिर में देर रात तक गूंजे बालाजी के जयकारे

-सुंदर-सुंदर झांकियां रही आकर्षण का केंद्र
बी.एल. वर्मा द्वारा
नारनौल 22 अप्रैल 2019
शहर के मोहल्ला संघीवाड़ा स्थित सीताराम मंदिर में रविवार रात हनुमान जन्मोत्सव एवं श्रीराम दरबार को दूसरा मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम बड़ी धूमधाम से मनाया गया। कार्यक्रम मंडल के संस्थापक ज्ञान स्वरूप शर्मा व संरक्षक गुरुजी सांवरमल गोयल के सानिध्य में हुआ, जिसकी अध्यक्षता मंडल के आचार्य क्रांति निर्मल शास्त्री ने की। कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि नगर परिषद की चेयरपर्सन भारती सैनी व विशिष्ठ अतिथि के रूप में राकेश शर्मा राष्टï्रीय कार्यकारणी सदस्य भाजपा किसान मोर्चा, समाजसेवी वैद्य किशन वशिष्ठ तथा समाजसेवी त्रिलोक सैनी भी विशेष रूप से मौजूद रहे। हनुमान जन्मोत्सव पर आयोजित इस कार्यकम में बाबा के दरबार को बड़े ही मनोहरी रूप से सजाया गया। कार्यक्रम का शुभारम्भ करते हुए सर्वप्रथम पंडित सीताराम व चरिाग शर्मा ने यजमान सुदर्शन बंसल, त्रिभुवन वर्मा तथा नरेश मित्तल को पूजा-अर्चना करवा बाबा की ज्योति प्रज्जवलित करवाई। इसके बाद भजनों की कड़ी को  आगे बढ़ाते हुए म्यूजिक मास्टर मोहन सागर ने गणेश वंदना की। गणेश वंदना के बाद क्षेत्र के मशहूर गायक कलाकर विकास जांगिड, कुमार रोहण, महेश मस्ताना, दास महेंद्र निजामपुरिया, योगी अरमान, बेबी लक्की, हन्नी अग्रवाल, दीपक वालिया तथा परमानंद ने अपने भजनों के माध्यम से देर रात भक्तों का समां बांधे रखा। इस मौके पर रेवाड़ी की काका सुदाम पार्टी द्वारा सुंदर-सुंदर झांकियां भी प्रस्तुत की गई जो भक्तों के विशेष आकर्षण का केंद्र रही। इस मौके पर भक्तों को संबोधित करते हुए नप चेयरर्पसन भारती सैनी ने कहा कि कल युग में केवल प्रभु का नाम ही भक्तों को भाव से पार कर सकता है। इसलिए हमें भगवन का सदैव सुमिरन करते रहना चाहिए। विशिष्ठ अतिथि राकेश शर्मा व वैद्य किशन वशिष्ठ ने भी इस आयोजन की भूरी-भूरी प्रसंशा की। अंत में मंडल के सदस्यों द्वारा सभी अतिथियों को सम्मानित किया गया व मावे का केट कर कर बालाजी को 56 भोग लागकर प्रसाद वितरित किया गया। इस मौके प्रमुख रूप से मंहत कैलाश हरित, महेश शर्मा, विकास अग्रवाल, केशव मित्तल, मनीष संघी, संजय सिंगल, प्रवीण अग्रवाल, विनोद शर्मा, गोपाल कौशिक, महेंद्र नूनीवाला, विनोद सोनी, सतीश बंसल, सुरेश शर्मा, कपिल निर्मल, मास्टर धर्मसिंह, दीपक सर्राफ, सुरेंद्र सैनी, मदनमोहन संघी, निपेंद्र संघी तथा दिनेश बारी आदि सहित विभिन्न धार्मिक संस्थाओं के पदाधिकारी भी मौजूद थे